ठुमक-ठुमक नाचे बाला

ठुमकठुमक नाचे बाला

(तर्ज-हवा में उड़ता जाये मेरा लाल दुपट्टा… फि.बरसात)

अरे ठुुमक-ठुमक कर नाचे,

हो राम नाम पे मतवाला…. हो राम नाम पे मतवाला,

(जय हो-जय हो….)

कष्टों को दूर भगावे, ये मां अंजनी का लाला,

ये मां अंजनी का लाला, जय हो-जय हो… अरे ठुमक…

ओ ऽऽ यू तो वीर बहुत जग में,

पर तू महावीर कहाया-2

ओ ऽऽ पाताल लोक में तुमने ही तो,

पंचम मुख दिखलाया-2

अहिरावण को संहारा, और राज पुत्र को दे डाला।।1।।

जय हो-जय हो… अरे ठुमक…

ओ ऽऽ एक नय शनिदेव ने तेरे,

सर पे आसन लाया-2

ओ ऽऽ तुमने भी फिर होकर क्रोधित,

पहाड़ से उसे खपाया-2

अभिमान चूर कर उसका और वर भी संग में दे डाला।।2।।

जय हो-जय हो… अरे ठुमक…

ओ ऽऽ एक एक समय माता सीता ने भोजन तुम्हें कराया-2

ओ ऽऽ नहीं भरा था पेट तुम्हारा  लाखों मन था खाया-2

तुलसी के पत्ते ऊपर, तुम्हें राम नाम लिख दे डाला।।3।।

जय हो-जय हो… अरे ठुमक…

ओ ऽऽ सालासर के ओ बाबा तुम,

दुखड़े सभी मिटाते-2

ओ ऽऽ प्रेत को मार के सोटा,

कोसों दूर भगाते-2

‘राजपाल’ है आस लगाये, मेरे घर आ बजरंग बाला।।4।।

जय हो-जय हो… अरे ठुमक…