तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार

तेरा राम जी करेंगे बेड़ा पार,

उदास मन काहे को करे।।

नैया तू कर दे प्रभु के हवाले,

लहर-लहर हरि आप संभाले।

हरि आप ही उतारें तेरा भार,

उदास मन काहे को करे।।

ये काबू में मंझधार

उसी के हाथों में पतवार,

बाजी, जीत ले वो चाहे तुम हार,

उदास मन काहे को करे।।

गर निर्दोष तुझे क्या डर है,

पग-पग पर साथी ईश्वर है।

जरा भावना से कीजिये पुकार,

उदास मन काहे को करे।।

सहज किनारा मिल जाएगा,

परम सहारा मिल जाएगा।

डोरी सौंप दे उसी के सब हाथ,

उदास मन काहे को करे।।