पार होगा वही

पार होगा वही

पार होगा वही जिसे पकड़ेंगे राम

जिसको छोड़ेंगे पल भर में डूब जाएगा

पार होगा वही…..

तिरना क्या जाने पत्थर बेचारे

तिरने लगे तेरे नाम के सहारे

नाम लिखते ही आ गए तो जो पत्थर में प्राण

जिसको छोड़ोगे पल भर में डूब जाएगा

पार होगा वही…..

लंका जलाई लांघा समुन्दर

राक्षस को मार आया छोटा सा बंदर

बस जपता रहा दिन रात तेरा नाम

जिसको छोड़ोगे पल भर मंे डूब जाएगा

पार होगा वही…..

सुनकर के बातें मुस्काए राम जी

मारे खुशी के नाचे हनुमान जी

भक्त ना देखा बनवारी तेरे समान

जिसको छोड़ोगे पल भर में डूब जाएगा।

पार होगा वही…..