बालाजी दीवाने हम

बालाजी दीवाने हम

(तर्ज – परदेशी परदेशी जाना नहीं… फि. राजा हिन्दुस्तानी)

शेर –     सुन लेंगे हर मन की पुकार बालाजी,

पुकारे जायेंगे, हम बार-बार बालाजी

बालाजी-बालाजी दीवाने हम, तेरे नाम के-1।। बालाजी….

बालाजी हमको अपना सालासर दिखाना,

मेंहदीपुर बुलाना, हमें भूल न जाना

हमको अपना दास बना लो बालाजी।

बुरे बलों को तुम निभालो बालाजी।।

मंगलवार शनिवार को तुम्हारे आये हैं।।1।।

बालाजी…..

देवों ने भी बालाजी तुम्हें वरदान दिये।

बल और बु(ि के बहुत से ज्ञान दिये।।

नाम तुम्हारा बालाजी संकट मोचन-2

दुख रंजन हो और तुम्हीं दुःख भंजन।।2।।

बालाजी…..

ब्रह्माजी से ब्रह्मा ज्ञान का बल पाया।

श्रीराम को आपका वानर तन भाया।

रामसीया को तुमने कंठ लगाया है-2

राम का बिगड़ा काज तुम्हीं ने बनाया है।।3।।

बालाजी…..