श्रीराम की गली

श्रीराम की गली

श्रीराम की गली में तुम जाना,

वहाँ नाचते मिलेंगे हनुमाना।

उनके तन में हैं राम उनके मन में हैं राम

अपनी आँखों से देखे वा कण-कण में राम

श्रीराम का वो हो गया दीवाना-वहाँ नाचते…..

ऐसा राम जी से जोड़ लिया नाता

जब भी देखो उन्हीं के गुण गाता

श्रीराम के चरण में ठिकाना-वहाँ नाचते …..

उनसे कहना राम राम वो कहेंगे राम राम

कुछ भी सुनते नहीं बस सुनेंगे राम राम

महामंत्र है ये भूल नहीं जाना-वहाँ नाचते …..

इतनी भगति वो बनवारी करने लगे

उनके सीने में राम सिया रहने लगे

इस कहानी को जानता जमाना-वहाँ नाचते …..