सालासर के देव पधारो

सालासर के देव पधारो

सालासर के देव पधारो,

कीर्तन की सब तैयारी है

आओ, आओ, हनुमान आओ,

देखो अरज हमारी है

सालासर के देव …………….

राम सिया को संग ले आओ

भगतों की ये अरजी है

दरश कराओ या तरसाओ

ये तो तुम्हारी मरजी है

कब आओगे नाथ बता दो

चाव दरश का भारी है

सालासर के देव …………….

भक्तों के तुम रखवारे हो

सबकी बात बनाते हो

नाम तुम्हारा जो भी जपता

उसको गले लगाते हो

भूले हुए को राह दिखाते

महिमा तेरी भारी है

सालासर के देव …………….